👉अंतरिक्ष में ये लैंडर भी हुआ था😲 गायब, फिर मिला 11 साल 👊बाद

  |   Hindielections / समाचार

लाखों किलोमीटर के सफर के बाद चांद से करीब दो किलोमीटर की दूरी पर चंद्रयान 2 के लैंडर विक्रम का गायब हो जाना, फिर संपर्क कट जाना। इसके बाद ये कि चांद से टकराकर विक्रम घायल हुआ। जल्दी-जल्दी हर अपडेट के बाद ताज़ा खबर ये है कि लैंडर विक्रम मिल चुका है।

उसे कोई नुकसान नहीं हुआ है और वह फिर अपना काम शुरू करेगा। विक्रम के छू मंतर होने से सही सलामत मिल जाने के बीच भावुकता और प्रतिक्रियाओं का हंगामा रहा लेकिन आपको जानना चाहिए कि अंतरिक्ष में ऐसा होता रहा है। अंतरिक्ष यान खोते और मिलते रहे हैं। ऐसी ही एक दिलचस्प दास्तान है जब एक 'गुम' हो गया यान रहस्य बना रहा और फिर सालों बाद रहस्य से पर्दा उठा।

भारत का महत्वाकांक्षी चंद्रयान 2 मिशन लगातार सुर्खियों में बना हुआ है। ताज़ा घटनाक्रम से क्या यह जिज्ञासा पैदा होती है कि कोई अंतरिक्ष यान पहले भी गायब होकर यानी संपर्क से कट जाने के बाद फिर मिल सका है? इस सवाल का जवाब हां हो या नहीं, आपको ब्रिटेन के उस अंतरिक्ष यान के लैंडर के बारे में जानना चाहिए, जो 11 सालों तक अंतरिक्ष का एक रहस्य बनकर रह गया था।

यूरोपीय अंतरिक्ष एजेंसी के ज़रिये ब्रिटेन ने अपना मार्स लैंडर बीगल 2 साल 2003 में मार्स एक्सप्रेस मिशन के तौर पर लॉंच किया था। ये मिशन लॉंच होने के बाद लैंडर बीगल 2 को 25 दिसंबर 2003 को मंगल की सतह पर लैंड करना था लेकिन उस दिन से ही बीगल 2 से संपर्क खत्म हो गया और कई कोशिशों के बावजूद जब संपर्क बहाल नहीं हुआ तो फरवरी 2004 में इसे नाकाम घोषित कर दिया गया।

तकरीबन 11 साल बाद जब नासा का एक मंगल की जासूसी करने वाला ऑर्बिटर चक्कर लगाकर तस्वीरें खींच रहा था, तब इस ऑर्बिटर ने हाईराइज़ कैमरा से बीगल 2 की कुछ तस्वीरें भेजीं। इन तस्वीरों से पता चला कि उस लैंडर को जिस लोकेशन पर लैंड करना था, वह उससे 4।8 किलोमीटर की दूरी पर पड़ा हुआ था और मंगल के इस हिस्से को इसिडिस प्लैनेशिया क्षेत्र के नाम से जाना जाता था। इस खबर के बाद फिर ब्रिटिश स्पेस वैज्ञानिकों ने कारण समझने की कोशिश की।

यहां पढ़ें पूरी खबर-http://v.duta.us/FkFo-wAA

📲 Get समाचार on Whatsapp 💬