मुंशी प्रेमचंद का गांव ‘अक्षर’ से बनेगा साक्षर, 13 साल के शिक्षक बुजुर्ग महिलाओं को सिखाएंगे क-ख-ग

  |   Varanasinews

'पढ़ेगा इंडिया तभी तो बढ़ेगा इंडिया' इन पंक्तियों को अब मुंशी प्रेमचंद के गांव की बुजुर्ग महिलाएं सार्थक कर रहीं हैं। विश्व साक्षरता दिवस पर रविवार को लमही में बुजुर्गों को साक्षर बनाने की पहल हुई है। विशाल भारत संस्थान लमही की बुजुर्ग महिलाओं को अक्षर का पाठ पढ़ाएगी।

लमही स्थित सुभाष भवन में अक्षर स्कूल का उद्घाटन हुआ। खास बात यह है कि इस स्कूल का संचालन पांच से 13 साल के बच्चे करेंगे। साथ ही जो महिलाएं स्कूल आने में सक्षम नहीं हैं, उन्हें घर तक जाकर साक्षर बनाएंगे। अक्षर स्कूल में इन महिलाओं के लिए क्रैश कोर्स चलाकर हस्ताक्षर करने और मोबाइल चलाने का भी प्रशिक्षण दिया जाएगा।...

फोटो - http://v.duta.us/zrf2hQAA

यहां पढें पूरी खबर— - http://v.duta.us/LIjL7wAA

📲 Get Varanasi News on Whatsapp 💬