सुरत-शब्द-योग से मानव अंतिम सच्चाई को प्राप्त कर सकता है- प्रो सतसंगी

  |   Uttar-Pradeshnews

आगरा: दयालबाग और कनाडा के वाटरलू विश्वविद्यालय द्वारा 'दयालबाग साइंस ऑफ कॉनशियसनेस' विषय पर संयुक्त रूप से एक दिवसीय अंतरराष्ट्रीय संगोष्ठि का आयोजन हुआ. इसमें 89 वैज्ञानिकों ने शोध पत्र प्रस्तुत किए. इसमें सबसे प्रमुख शोध पत्र था राधास्वामी मत के आठवें आचार्य और एमिरट्स चेयर प्रो. प्रेम सरन सतसंगी का. प्रोफेसर सतसंगी ने अपने अनुभवों पर आधारित शोध पत्र 'संपूर्ण न्यूरो थियोलॉजी एक अंतिम सत्य- चेतना विज्ञान' प्रस्तुत किए.

अपने शोध पत्र के माध्यम से प्रोफेसर सतसंगी ने वैज्ञानिक तरीकों से समझाया कि सुरत-शब्द- योग द्वारा मानव किस प्रकार अंतिम सच्चाई को प्राप्त कर सकता है. इस शोध पत्र को तैयार करने में दयालबाग में समय-समय पर कई प्रकार के वैज्ञानिक प्रयोग किए जाते रहे हैं. यहां हो रहे शोध पूर्ण रूप से विज्ञान और गणित पर आधारित है....

फोटो - http://v.duta.us/2bRI9wAA

यहां पढें पूरी खबर— - http://v.duta.us/KaJ_ygAA

📲 Get UttarPradesh News on Whatsapp 💬