The Sword Of Play : पाकिस्तान ने अपनाई अजमेर की यह परम्परा

  |   Ajmernews

युगलेश शर्मा.

अजमेर. अजमेर (ajmer) के अंदरकोट में मोहर्रम (muharram) की नौ व दस तारीख को द सोसायटी पंचायत अंदरकोटियान की ओर से हाईदौस की रस्म अदा की जाती है। रस्म के दौरान रह-रह कर तोप की आवाज आती है और ढोल-ताशों की गूंज के बीच युवाओं के हाथों में चमचमाती तलवारें (swords) लहराती हैं। इसमें कई युवक जख्मीं होते हैं, लेकिन इन जख्मों की परवाह किए बिना हर कोई अपने आपको हजरत इमाम हुसैन (imam hussain) के लश्कर में शामिल होता हुआ मानकर हाईदौस खेलता रहता है। मोहर्रम की नौ तारीख को यह रस्म कुछ देर के लिए होती है, लेकिन दस तारीख को करीब 3 घंटे तक हाईदौस खेला जाता है।...

फोटो - http://v.duta.us/tnX8MwAA

यहां पढें पूरी खबर— - http://v.duta.us/01lVigAA

📲 Get Ajmer News on Whatsapp 💬