[katni] - इस जिले में 14 लाख लोगों के उपचार में सामने आई बड़ी बेपरवाही, सरकार के इस निर्णय से बढ़ी परेशानी

  |   Katninews

कटनी. मरीजों की पीड़ा से न तो स्वास्थ्य विभाग को परवाह है और ना ही जनप्रतिनिधियों को। जिला अस्पताल कटनी में 26 जनवरी 2018 से सीटी स्कैन सेंटर खुल जाना था, ताकि मरीजों का रियायतदर में सीटी स्कैन हो सके और उनका सही उपचार हो सके। लेकिन पहले स्वास्थ्य विभाग की बेपरवाही और अब एजेंसी की लापरवाही के चलते सीटी स्कैन सेंटर नहीं शुरू हो पाया। इसकी मुख्य वजह है पूर्व सरकार द्वारा प्रदेशभर की अधिकांश अस्पतालों के मशीनों के रखरखाव और लगाने की जिम्मा एक ही एजेंसी को दे रखा है। ऐसे में समय पर मशीनें न आने से मरीजों को भारी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। जिला अस्पताल में प्रतिदिन 800 से अधिक मरीज उपचार के लिये पहुंचते हैं, जिसमें 50 से अधिक गंभीर होते हैं। लगभग 15 से 20 मरीज ऐसे होते हैं, जिनके उपचार के लिये सीटी स्कैन कराना जरुरी हो जाता है। मजबूरी में मरीज को ढाई से तीन हजार रुपये खर्चने पड़ते हैं या फिर रुपयों के अभाव में डॉक्टर से अंदाज में उपचार कराने की मजबूरी होती है। पहले जिला अस्पताल में सीटी स्कैन के लिए उपयुक्त कमरा न बनने के कारण बिलंब हुआ, लेकिन जब अस्पताल प्रबंधन द्वारा कमरा तैयार करा दिया गया है तो लगभग एक माह बाद भी सीटी स्कैन मशीनें नहीं इन्सटॉल की गईं। इसका खामियाजा मरीजों व उनके परिजनों को भुगतना पड़ रहा है। कटनी जिले की 14 लाख आबादी के साथ उपचार में बेपरवाही हो रही है। वहीं आसपास के 4-5 जिलों के मरीज भी पहुंचते हैं।...

फोटो - http://v.duta.us/AnaagwAA

यहां पढें पूरी खबर— - http://v.duta.us/g_vZ-QAA

📲 Get Katni News on Whatsapp 💬