[rewa] - रीवा संभाग में 15 करोड़ के कर्ज में मनरेगा, सबसे ज्यादा सतना में 8 करोड़ बकाया

  |   Rewanews

रीवा. सरकार की महत्वाकांक्षी योजना मनरेगा बेपटरी हो गई है। बजट के अभाव में बीते एक माह से हजारों मजदूरों का बकाया भुगतान नहीं हो सका है। हालात यह हैं कि मनरेगा करोड़ों रुपए के कर्ज में डूबी है। रीवा संभाग में 15 करोड़ रुपए से अधिक का भुगतान बकाया हो गया है। इससे पंचायतों में कामकाज ठप होने के कगार पर है। समय से मजदूरी नहीं मिलने के कारण मजदूरों का पलायन बढ़ गया है।

रीवा, सीधी और सिंगरौली की अपेक्षा सतना में दोगुना से अधिक मजदूरों की दिहाड़ी बकाया है। बजट के अभाव में अकेले सतना में 8.38 करोड़ रुपए से ज्यादा का भुगतान अटका है। जबकि रीवा और सीधी में लगभग ढाई-ढाई करोड़ तो सिंगरौली में दो करोड़ रुपए बकाया है। उदाहरण के तौर पर रीवा के गंगेव, नईगढ़ी, हनुमना और मऊगंज में सबसे ज्यादा मजदूरी बकाया है। हनुमना जनपद सहित जिले की ज्यादातर ग्राम पंचायत के मजदूर ग्राम पंचायत से लेकर जनपद और जिलास्तर पर अधिकारियों से मजदूरी भुगतान के लिए अफसरों की चौखट पर चक्कर लगा रहे हैं। जवा की कमला साकेत, मऊगंज के रामदेव आदिवासी ने बताया कि मनरेगा में समय से मजदूरी नहीं मिलने के कारण काम की तलाश में शहर जाना पड़ता है। उधर, मनरेगा साइट के आंकड़े में प्रदेश स्तर पर 189 करोड़ रुपए से अधिक का भुगतान बकाया है।...

फोटो - http://v.duta.us/zKB6OQAA

यहां पढें पूरी खबर— - http://v.duta.us/a9w9OwAA

📲 Get Rewa News on Whatsapp 💬