[shajapur] - उपज बेचते ही किसानों को मिला मेहनत का फल

  |   Shajapurnews

शाजापुर. आखिरकार ढाई साल बाद एक बार फिर कृषि उपज मंडी में नकदी का लेनदेन होना शुरू हो गया। नोटबंदी के बाद से केशलेस हुई मंडी में सोमवार से दोबारा नकद भुगतान शुरू हो गया। किसानों को जहां नकद भुगतान से राहत मिली, वहीं मंडी में भी किसानों को नकद राशि मिलने के बाद अब बाजार में भी रौनक लौटने की उम्मीद जाग गई है। नकद भुगतान की शुरू हुई मंडी में भी व्यापारियों ने दो बार घोष विक्रय करके किसानों की उपज को खरीदा।

नोटबंदी के बाद से कृषि उपज मंडी में नकद भुगतान की प्रक्रिया पर पूरी तरह से रोक लग गई थी। बाद कई दिनों तक मंडी में कामकाज पूरी तरह से बंद रहा था। इसके बाद मंडी जब शुरू हुई तो यहां पर किसानों को व्यापारी उपज खरीदकर चेक के माध्यम से भुगतान करने लगे। जहां मंडी में किसानों को हमेशा नकद भुगतान होता था, उस मंडी से अब किसानों को उपज विक्रय के बाद चेक मिलने लगा। इस चेक को किसान को अपने खाते में जमा करने के बाद बैंक से राशि निकालना पड़ती थी। इस प्रक्रिया से किसानों को खासी परेशानी का सामना करना पड़ता था। ऐसे में मंडी प्रबंधन ने फैसला लिया कि मंडी में किसानों को उनकी उपज का भुगतान आरटीजीएस के माध्यम से किया जाए। ऐसे में सभी व्यापारियों ने मंडी में उपज का भुगतान आरटीजीएस के माध्यम से किसानों के खाते में करना शुरू कर दिया। इससे आने वाली परेशानी को देखते हुए गत दिनों मंडी व्यापारियों ने बैठक करके मंडी में नकद भुगतान की प्रक्रिया को शुरू करने का निर्णय लिया। सोमवार से कृषि उपज मंडी में किसानों से खरीदी पज का नकद भुगतान करना शुरू कर दिया गया।...

फोटो - http://v.duta.us/IOukbgAA

यहां पढें पूरी खबर— - http://v.duta.us/LA3lFgAA

📲 Get Shajapur News on Whatsapp 💬